बैंक अकाउंट कैसे खोलते है | Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain

अगर आपका सवाल है कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है तो इस लेख में हमने बैंक अकाउंट खोलने की प्रक्रिया से लेकर, अकाउंट के प्रकार और बैंक अकाउंट से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी दी है। दशकों से बैंक ने भारत ने एक मज़बूत जगह बना ली है, लोग बैंक में ना केवल अपने पैसे जमा रखते हैं बल्कि वहां अपनी कीमती चीज़ें जैसे गहनें आदि भी सुरक्षित रखते हैं।

बैंक अकाउंट आपके पैसे को सुरक्षित रखने में सहायता करते हैं। साथ ही, वे आपको आपकी जमा राशि पर ब्याज देते हैं, जिससे आपको इन्वेस्टमेंट या बचत को बढ़ाने में मदद मिलती है।

भारत में बैंकिंग लाभों से जुड़ी कई महत्वपूर्ण डिटेल को समझने के लिए आपको कुछ ज़रूरी तथ्यों को जानने की आवश्यकता है, जैसे कि सबसे पहले एक बैंक चुनना और भारत में एक बैंक अकाउंट कैसे खोलते है, जो आपकी आवश्यकताओं को पूरा करता हो या एक बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली विभिन्न सेवाओं का उपयोग कैसे करें।

इस लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ें।

Table of Contents

बैंक अकाउंट क्या है और क्यों ज़रूरी है?

अगर हम बैंक अकाउंट की परिभाषा की बात करें तो, यह सरकार या प्राइवेट संस्थान द्वारा चल रहे बैंक में एक खाता होता है जो कोई भी भारतीय व्यक्ति आसानी से किसी भी बैंक में खोल सकता है।

बैंक अकाउंट का मुख्य काम ये होता है कि इससे आपकी लेन-देन की प्रक्रिया सरल हो और आपको बैंक की सभी ज़रूरी सुविधाएं मिले।

आगे हम आपको बताने वाले हैं की बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। लेकिन उससे पहले हम बात करते हैं कि बैंक अकाउंट क्यों ज़रूरी है। 

बैंक अकाउंट की ज़रूरत की बात करें तो, यदि आप अपने पैसे तक आसानी से पहुंच चाहते हैं, साथ ही अपने हिसाब से भुगतान करने की क्षमता चाहते हैं, तेजी से पैसे ट्रांसफर करने और अपनी बैलेंस राशि का ट्रैक रखने की क्षमता चाहते हैं तो इन मामलों में आज के दौर में आपके पास एक बैंक अकाउंट होना ही चाहिए।

बैंक अकाउंट क्या है और क्यों ज़रूरी है?

बैंक अकाउंट क्यों ज़रूरी है?

बचत 

अगर आप सोच रहे हैं कि बैंक अकाउंट इतना क्यों ज़रूरी है तो इसकी सबसे बड़ी विशेषता यही है कि बैंक अकाउंट खोलने से आपके पैसों की बचत आसानी से होती है, इसलिए आपको पता होना चाहिए कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। 

फ्लेक्सिबिलिटी

आप जब चाहे अपने बैंक अकाउंट में पैसे जमा कर सकते हैं और काम पड़ने पर उन्हें आसानी से निकाल भी सकते हैं, तो बैंक अकाउंट आपको यह सुविधा भी देता है। 

पहचान 

बैंक अकाउंट होना आज के दौर में बहुत ज़रूरी इसलिए भी है क्योंकि बहुत सी जगह पर आपको यह एक पहचान देता है। जैसे अगर आप लोन लेते हैं या कहीं अप्लाई करते हैं तो आपकी एक पहचान आपका बैंक अकाउंट भी है। 

सुरक्षा

बैंक अकाउंट आपको आपके पैसों के लिए और सभी ज़रूरी कागज़ात या गहनों की सम्पूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है।

यह भी पढ़े – वेबसाइट कैसे बनाये?

बैंक अकाउंट के प्रकार | Types of Bank Accounts in Hindi

इससे पहले कि हम बैंक अकाउंट कैसे खोलते है पर बात करें, हम आपको बताते हैं कि बैंक अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं।

बैंक अकाउंट के प्रकार Types of Bank Accounts in Hindi

1. बचत खाता | Savings Account

ये बचत खाते हैं जो लोगों को पैसे बचाने में सहायता करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। भारत में कोई भी व्यक्ति जिसके पास आधार कार्ड और पैन कार्ड है, दोनों के लिए भारत में बैंक खाता खोलना आवश्यक है, वह एक बचत खाता खोल सकता है।

सीमा – बचत खाता में जितना रूपए बचाया जा सकता है, वह असीमित है। हालाँकि आपके बैंक के आधार पर, आपके द्वारा किए जा सकने वाले लेन-देन की संख्या सीमित हो सकती है।

आगे पढ़िए बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। 

बैलेंस – ज्यादातर परिस्थितियों में, बचत खाता रखने के लिए उपभोक्ता को न्यूनतम बैलेंस बनाए रखना चाहिए। केवल कुछ खातों को न्यूनतम बैलेंस आवश्यकताओं से छूट प्राप्त है।

ब्याज – ब्याज का भुगतान उपभोक्ता द्वारा बचत खाते में जमा पैसों पर किया जाता है। यह ब्याज दर (Interest Rate) सभी बैंकों में लगभग अलग-अलग होती है। कोई भी बैंक जो बचत खाता प्रदान करता है, उसे न्यूनतम 3% ब्याज दर देना आवश्यक है।

लाभ – बचत खाते बैंकों में रखे पैसों पर ब्याज उत्पन्न करने का सबसे सुविधाजनक तरीका है।

2. चालू खाता | Current Account

अगर आप चालू खाते कि जानकारी चाहते हैं तो उसके पहले आपको यह पता होना चाहिए कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। 

चालू खातों का उपयोग आमतौर पर बिज़नेस द्वारा नियमित रूप से विभिन्न फाइनेंसियल खातों के बीच पैसे ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। ये अकाउंट कारपोरेशन और कंपनी के मालिकों द्वारा दैनिक कमर्शियल लेनदेन के लिए सबसे अच्छे कहलाते हैं।

सीमा – चालू खाते में जमा की जा सकने वाली राशि की कोई सीमा नहीं है। चालू खातों पर लेनदेन की कोई सीमा नहीं है।

बैलेंस – एक चालू खाते की न्यूनतम बैलेंस की आवश्यकता बचत खाते की तुलना में अधिक होती है।

ब्याज – उपभोक्ताओं को उनके चालू खातों पर कोई ब्याज नहीं मिलता है।

इससे पहले कि हम अन्य बैंक अकाउंट के प्रकारों को जानें, हम आपको बताना चाहते हैं कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है.

लाभ – ये खाते ओवरड्राफ्ट की अनुमति देते हैं, जिससे ग्राहक अपने खाते से उपलब्ध पैसों से ज्यादा पैसे निकाल सकते हैं।

3. वेतन खाता | Salary Account

बैंक इन खातों को बड़े बिज़नेस और इंडस्ट्री के अनुरोध पर खोलते हैं जो अपने कर्मियों (Employees) को बैंकिंग प्रणाली के माध्यम से भुगतान करते हैं। प्रत्येक कर्मचारी एक वेतन खाता रखने का हकदार है जिसमें उसका नियोक्ता (Employer) अपना मासिक वेतन (Monthly Salary) जमा करता है।

सीमा – वेतन खाते में कितनी राशि डाली जा सकती है, इसकी कोई सीमा नहीं है। प्रत्येक कर्मचारी को उसके सहकर्मियों से मिलने वाली राशि के आधार पर भुगतान किया जाता है। आगे जानें बैंक अकाउंट कैसे खोलते है, कर्मचारी इस प्रकार के बैंक खाते और दूसरे के बीच स्वतंत्र लेनदेन कर सकते हैं।

बैलेंस – वेतन खातों में शून्य बैलेंस होता है, जिसका अर्थ है कि कर्मचारी खाते में जमा किए गए पैसों को किसी भी समय निकाल सकते हैं।

ब्याज – कर्मचारी अपने वेतन खातों पर ब्याज नहीं कमाते हैं।

लाभ – इन खातों को किसी भी समय बचत खातों में बदला जा सकता है। तीन महीने की निष्क्रियता (Inactivity) के बाद, बैंकों के पास इन खातों को बचत खातों में बदलने का विवेकाधिकार है, जो अलग-अलग शासित होते हैं।

यह भी पढ़े – ग्राम पंचायत की वोटर लिस्ट कैसे निकाले

4. एनआरआई खाता | NRI Account

अनिवासी भारतीय जो भारत में बैंक खाता रखना चाहते हैं, इनमें से कोई एक खाता खोल सकते हैं। तीन अलग-अलग प्रकार के एनआरआई खाते उपलब्ध हैं, जिससे आपको पता चलेगा कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। 

(ए) गैर-आवासीय साधारण खाता (एनआरओ)

इन खातों में भारतीय रुपये जमा किए जाते हैं। धन भारत में अर्जित राजस्व की मदद से जमा किया गया था।

(बी) गैर-आवासीय बाहरी खाता (एनआरई)

इन खातों में भारतीय रुपये जमा किए जाते हैं। दूसरी ओर, जमा किया गया धन भारत में अर्जित आय से नहीं है; बल्कि, यह अनिवासी भारतीय के गृह देश से होने वाली कमाई या बचत है।

(सी) विदेशी मुद्रा गैर-आवासीय खाता (एफसीएनआर)

इन खातों में भारतीय रुपये में जमा होते हैं, जिन्हें भारतीय रिजर्व बैंक, देश के केंद्रीय बैंक द्वारा अधिकृत किया गया है। क्या आपको पता है NRI बैंक अकाउंट कैसे खोलते है, कोई भी एनआरआई या भारतीय मूल का व्यक्ति जो किसी मान्यता प्राप्त मुद्रा में पैसा कमाता है, उस मुद्रा में जमा रख सकता है।

5. रेकरींग डिपाजिट अकाउंट | Recurring Deposit Account

जो उपभोक्ता अपने पैसे पर ब्याज कमाने के इच्छुक हैं, वे इन अकाउंट को जमा खाते के रूप में खोलते हैं। इन अकाउंट को RD के रूप में भी जाना जाता है, बचत खातों द्वारा दी गई आय की तुलना में बड़ी आय पाना के सबसे सरल तरीकों में से एक है।

सीमा – आरडी खोलने के लिए आवश्यक न्यूनतम जमा बैंक द्वारा भिन्न होता है। उपभोक्ता 1,000 रुपये की मासिक न्यूनतम सीमा चुन सकते हैं और अगर आपको पता है कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है तो आप अपनी पसंद के किसी भी बैंक में आरडी खाता खोल सकते हैं।

बैलेंस – आरडी जमा खाते हैं जो ग्राहकों को खाते की अवधि की शुरुआत में निर्धारित मासिक राशि निकालने की अनुमति देते हैं।

ब्याज – हर महीने एक विशिष्ट राशि ली जाती है और आरडी खाते में जमा की जाती है, जहां उसे महीने दर महीने ब्याज मिलता है। यह ब्याज अक्सर बचत खातों द्वारा दिए जाने वाले ब्याज से अधिक होता है।

लाभ – आरडी की परिवर्तनीय अवधि इसे उपभोक्ताओं के लिए एक लागत प्रभावी वित्तीय समाधान बनाती है। पर पहले जान लीजिये कि RD बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। उपभोक्ता आरडी में छह महीने से लेकर दस साल तक की अवधि के लिए पैसा जमा कर सकते हैं और रखी गई राशि पर ब्याज कमा सकते हैं।

6. फिक्स्ड डिपाजिट अकाउंट | Fixed Deposit Account

ये ऐसे खाते हैं जो जमा पैसों पर परिपक्व होने तक एक निश्चित अवधि के लिए ब्याज अर्जित करने के लिए स्थापित किए जाते हैं। सावधि जमा अप्रयुक्त धन पर ब्याज बचाने और एकत्र करने के सबसे सुरक्षित तरीकों में से एक है।

सीमा – सावधि जमा खाते में जमा की जा सकने वाली धनराशि की कोई सीमा नहीं है। धन आवंटन जितना बड़ा होगा, खाते की अवधि के अंत में ब्याज का भुगतान उतना ही अधिक होगा। बैंक अकाउंट कैसे खोलते है, इसकी सम्पूर्ण जानकारी यहाँ पढ़ें। 

ब्याज – FD अकाउंट के बैलेंस में एकमुश्त नकद निवेश किया जाता है।

बैलेंस – इस जमा पर बैंक आपको ब्याज देगा। FD की अवधि समाप्त होने के बाद, ब्याज का भुगतान किया जाता है। जब कोई उपभोक्ता FD को उसकी अवधि के बीच में तोड़ता है, तो वे ब्याज खोने का जोखिम उठाते हैं और आम तौर पर केवल मूल राशि प्राप्त करते हैं।

लाभ – FD कम-जोखिम, उच्च-लाभ वाले निवेश हैं। एफडी के मामले में बैंक को मिलने वाले निश्चित अवधि के लाभ के कारण, भारत में अधिकांश बैंक एफडी ब्याज दर देते हैं जो बचत खाते और आरडी ब्याज दरों से अधिक होती है।

अब हम आपको बताने वाले हैं कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है।

यह भी पढ़े – कंप्यूटर क्या है?

बैंक अकाउंट खोलने के लिए ज़रूरी दस्तावेज़

बैंक अकाउंट खोलने के लिए आपको कुछ दस्तावेज़ आवश्यक होते हैं, लिस्ट हमने नीचे दी है। 

  • सबसे पहले आपको एक बैंक का फॉर्म लगेगा जिसमें आपकी जानकारी होनी चाहिए 
  • फिर कम से कम तीन फोटो (नयी फोटो)
  • उसके बाद आपका आइडेंटिटी प्रूफ जैसे – आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड 
  • पता प्रमाण के रूप में टेलीफोन या बिजली बिल इत्यादि।

बैंक अकाउंट कैसे खोलते है | Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain

आज के इस डिजिटल दौर में वैसे तो सभी ऑनलाइन बैंक अकाउंट खोलने की सुविधा प्रदान करते हैं लेकिन हम आपको पहले ऑफलाइन (यानि बैंक ब्रांच में जाकर) बैंक अकाउंट खोलने की प्रक्रिया बताएँगे।

स्टेप 1 – आप जिस बैंक में अपना अकाउंट खोलना चाहते हैं उस बैंक को चुनें

अगर आप अभी बैंक के लिए नए हैं तो आप सबसे पहले अपने घर के आसपास बैंक ढूंढें और अगर आपको ज़रूरत महसूस हो तो आप 2-4 बैंक में अकाउंट और उससे जुड़ी सभी सुविधाओं की जानकारी पता कर लीजिये।

स्टेप 2 – बैंक ब्रांच पर जाएं

जब आपको तसल्ली हो जाए तब आप किसी एक बैंक से पता कीजिये कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। एक बार जब आप एक बैंक चुन लेते हैं, तो आप अपने पहचान प्रमाण-पत्रों और एक छोटी जमा राशि के साथ बैंक के समय के दौरान बैंक में जाकर खाता खोल सकते हैं।

स्टेप 3 – एक उपयुक्त बैंक अकाउंट चुनें

एक बैंक आपकी आवश्यकताओं के आधार पर विभिन्न प्रकार के खाते और सेवाएं प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, यदि आप एक बिज़नेस चलाते हैं, तो आप अपनी मूलभूत बैंकिंग आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक चालू खाता (Current Account) खोल सकते हैं नहीं तो साधारण सेविंग्स अकाउंट बेस्ट है। 

जैसे ही यह तय हो जाये उसके बाद आपको पता करना होगा कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है और फिर हेल्प-डेस्क से बैंक अकाउंट ओपनिंग का फॉर्म लेना होगा और उसे पूरा भरना होगा अपनी जानकारी के साथ। 

स्टेप 4 – ज़रूरी जानकारी और दस्तावेज प्रदान करें

आपको फॉर्म को पूरा करना होगा, दो फोटोग्राफ लगाना होगा और केवाईसी (KYC) जानकारी देनी होगी। आपके पैन कार्ड, पासपोर्ट, या आधार कार्ड के रूप में फोटो ‘पहचान प्रमाण’, साथ ही आपके पासपोर्ट, राशन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, या आधार कार्ड के रूप में ‘पता प्रमाण’ आवश्यक है। इसके अलावा, आप फोटो और एड्रेस प्रूफ दोनों उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अपने पासपोर्ट या आधार कार्ड का उपयोग कर सकते हैं।

अब तक आपको होगा कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है, आगे हम आपको इससे जुड़ी अन्य प्रक्रियाओं के बारे में विस्तार से बताएँगे। 

स्टेप 5 – बैंक के नियम और शर्तों से सहमत हों।

बैंक अकाउंट ओपनिंग के फॉर्म में हस्ताक्षर करने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपने सभी नियमों और शर्तों को अच्छी तरह से पढ़ लिया है, और यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो आप बैंक के किसी कर्मचारी से संपर्क कर लें। अधिकांश बैंक आपकी ओर से पूरा फॉर्म भरेंगे, और आपको केवल अपने दस्तावेज़ जमा करने होंगे और सभी नियमों और शर्तों को पढ़ने के बाद हस्ताक्षर करने होंगे।

जैसे ही बैंक की तरफ से वेरिफिकेशन हो जाता है और आपको पता लग जाता है कि बैंक अकाउंट कैसे खोलते है। आपका बैंक अकाउंट तुरंत खुल जाएगा और आपको बैंक पासबुक, नेट बैंकिंग के लिए ऐप की जानकारी।

यह भी पढ़े – एमएस एक्सेल क्या है?

पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

बैंक अकाउंट खोलने में कितने रूपए लगते हैं?

ये निर्भर करता है कि आप किस बैंक में अकाउंट खुलवा रहें हैं, क्योंकि हर बैंक का न्यूनतम बैलेंस अलग-अलग होता हो। कुछ सरकारी योजना के तहत आपका अकाउंट शून्य में भी खुल जाता है। 

बैंक अकाउंट खुलने में कितना समय लगता है?

अक्सर, बैंक अकाउंट 24 घंटे में खुल जाता है। जब फॉर्म और बाकी सारे दस्तावेज़ जमा कर देते हैं उसके बाद बैंक उसे वेरीफाई करता है इसलिए 24 घंटों का वक़्त लगता है। 

क्या 18 साल से कम के लोगों का बैंक अकाउंट खुल सकता है?

जी हाँ, मगर 18 साल से कम आयु वाले लोगों का बैंक अकाउंट उनके माता-पिता या किसी गार्डियन के साथ जॉइंट अकाउंट खुलता है।

अंतिम पंक्तियाँ

बैंक अकाउंट कैसे खोलते है और इसकी क्या प्रक्रिया है इस बारे में हमने इस लेख में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की है। चाहे सरकारी हो या प्राइवेट बैंक, बैंक हमेशा से ही सभी भारतीयों को फाइनेंसियल रूप से मज़बूत बनाने का काम करते हैं।

अगर आपने अभी तक अपना बैंक अकाउंट नहीं खोला था तो इस लेख के बाद आप आसानी से अपना बैंक अकाउंट खोल सकते हैं और किसी भी समस्या पर हमें नीचे कमेंट करके ज़रूर बताएं।

Add a Comment

Your email address will not be published.