डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें | Distance Learning se Graduation Kaise Karen

आप सभी ने इसके बारे में सुना ही होगा लेकिन अगर आपको नहीं पता कि डिस्टेंस लर्निंग क्या होता है और डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? तो इस लेख को अंत तक पढ़ें। 

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा लेकिन आज भारत में लगभग 24% छात्र डिस्टेंस लर्निंग को ज्यादा महत्व दे रहे हैं। इसके बहुत से कारण हैं और इन्हीं सब बातों को स्पष्ट करने के लिए और आप तक डिस्टेंस लर्निंग की सम्पूर्ण जानकारी लाने के लिए हमने इस लेख को बनाया है। 

Table of Contents

डिस्टेंस लर्निंग क्या है? 

पिछले 2 वर्षों में दुनिया भर के कॉलेज और यूनिवर्सिटी में यह डिस्टेंस लर्निंग का कांसेप्ट ने ज्यादा जोर पकड़ा है। धीरे-धीरे भारत में भी यह कांसेप्ट छात्रों और उनके माता-पिता के बीच बहुत अच्छी पकड़ बनाता जा रहा है। 

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, सरल शब्दों में बताएं तो डिस्टेंस लर्निंग वो है जहाँ टीचर और दूसरे साथियों के साथ आमने-सामने पढ़ाई नहीं होती है। मतलब किसी भी छात्र का किसी भी टीचर के साथ सीधा संवाद नहीं होता है, बच्चों को खुद ही पढ़ना होता है इसलिए इस शिक्षा पद्धति की स्पीड और समय हर बच्चों का अलग हो सकता है। 

सारे लेक्चर, पढ़ाई की किताबें, ज्ञान के लिए सभी डाक्यूमेंट्स ईमेल पर भेज दिए जाते हैं जहां से छात्र अपने समय के अनुसार कभी भी कहीं से भी पढ़ाई कर सकें। डिस्टेंस लर्निंग के बहुत से फायदे भी हैं और नुकसान भी जो हम आपको नीचे सविस्तार बताने वाले हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें | Distance Learning se Graduation Kaise Karen

यदि आप हमसे पूछोगे की आज सबसे आसान चीज़ क्या है तो हम कहेंगे डिस्टेंस लर्निंग में ग्रेजुएशन करने के लिए एडमिशन लेना। लेकिन फिर भी यदि आपका कोई सवाल है तो हम आपको नीचे बताने वाले हैं कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें Distance Learning se Graduation Kaise Karen

सबसे पहले तो ग्रेजुएशन कोई भी हो, जब तक आपने 12वीं की कक्षा नहीं पास नहीं की तब तक ग्रेजुएशन संभव नहीं है। पर एक बार जब आप 12वीं उत्तीर्ण कर जाते हो तब आपको ग्रेजुएशन के बारे मविन सोचना ही चाहिए और जब आपके पास डिस्टेंस लर्निंग जैसा विकल्प उपलब्ध है तो क्यों नहीं?

अब हम बात करते हैं कि आप डिस्टेंस लर्निंग में ग्रेजुएशन कैसे कर सकते हो? तो हम आपको बता दें कि डिस्टेंस लर्निंग में ग्रेजुएशन करने के लिए आवेदन देने के 2 तरीके हैं। एक तरीका है ऑनलाइन आवेदन और दूसरा है ऑफलाइन आवेदन। 

ऑनलाइन आवेदन का तरीका ऐसा है कि आप सबसे पहले ऊपर दिए हुए कॉलेज के नाम पढ़कर और उनकी जानकारी हासिल करके एक कॉलेज चुन लीजिये, डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें। फिर उस कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट में जाइये और जिस कोर्स के लिए आपको डिस्टेंस लर्निंग का आवेदन करना है उसको ढूंढ कर आवेदन दे दीजिए। 

ऑनलाइन तरीका सबसे आसान है बस चंद मिनटों में आपका डिस्टेंस लर्निंग का आवेदन जमा भी हो जाएगा। 

ऑफलाइन तरीका थोड़ा सा कठिन है क्योंकि अगर आपको डिस्टेंस लर्निंग करनी है तो आप बिना वजह क्यों हज़ारों किलोमीटर कॉलेज जाएंगे और आवेदन देंगे, इसलिए हमारी राय में ऑनलाइन तरीके से डिस्टेंस लर्निंग का आवेदन सर्वश्रेष्ठ है।

यह भी पढ़े: ग्राम पंचायत की वोटर लिस्ट कैसे निकाले

डिस्टेंस लर्निंग की सहायता से आप कौन कौन से कोर्स कर सकते हैं?

भारत में ऐसे सैकड़ों डिस्टेंस लर्निंग के कोर्स उपलब्ध हैं जो आसानी से घर बैठे किये जा सकते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, नीचे हमने कोर्स के नाम सविस्तार बताएं हैं।

डिस्टेंस लर्निंग की सहायता से आप कौन कौन से कोर्स कर सकते हैं?

डिस्टेंस लर्निंग ग्रेजुएशन कोर्स

  • BBA – बैचलर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन
  • B.Com – बैचलर ऑफ़ कॉमर्स 
  • B.Sc – बैचलर ऑफ़ साइंस  
  • B.Sc IT –  बैचलर ऑफ़ साइंस (इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी)
  • BCA – बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन 
  • BA – बैचलर ऑफ़ आर्ट्स 

डिस्टेंस लर्निंग पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स

  • M.Sc – मास्टर ऑफ़ साइंस 
  • M.Sc IT – मास्टर्स ऑफ़ साइंस (इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी)
  • MBA – मास्टर्स ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन)
  • B.Ed – बैचलर्स ऑफ़ एजुकेशन 
  • MCA – मास्टर्स ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन 
  • Master’s in any field
  • MFM (Master in Finance management)
  • MA – मास्टर्स ऑफ़ आर्ट्स 
  • MJMC (Master’s in journalism and mass communication)

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें यह जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें।

डिस्टेंस लर्निंग डिप्लोमा कोर्स

  • डिप्लोमा – बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन
  • डिप्लोमा – कंप्यूटर एप्लीकेशन
  • डिप्लोमा – इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
  • डिप्लोमा – मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म

यह भी पढ़े: बैंक अकाउंट कैसे खोलते है?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए सबसे अच्छे कॉलेज कौन–कौन से हैं?

आज का नया ज़माना जितना तेज़ी से आगे बढ़ रहा है उतनी ही तेज़ी से दिन-प्रति दिन डिस्टेंस लर्निंग के कॉलेज खुलते जा रहे हैं या पुराने कॉलेज ही इस नई शैली को अपनाकर अपने छात्रों को आकर्षित कर रहे हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए सबसे अच्छे कॉलेज कौन–कौन से हैं?

अगर आप सोच रहे हैं कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, कहाँ से करें और इस सूची को देख रहे हैं तो हम आपको बता दें कि आज भारत में सैकड़ों कॉलेज हैं जहां से डिस्टेंस लर्निंग या एजुकेशन संभव है। लेकिन आपको किसी भी प्रकार की दुविधा ना हो इसलिए हमने नीचे भारत के कुछ सर्वश्रेष्ठ डिस्टेंस लर्निंग के कॉलेज के नाम लिखे हैं। अंत तक ज़रूर पढ़ें।

1. एनएमआईएमएस डिस्टेंस लर्निंग | NMIMS

NMIMS संस्थान की स्थापना 1981 में हुई थी और इसके विभिन्न शहरों में स्थित विभिन्न केंद्र हैं। यह एनएमआईएमएस संस्थान ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन कार्यक्रमों में विभिन्न विशेषज्ञताओं में उपलब्ध डिस्टेंस लर्निंग कोर्स के लिए प्रसिद्ध है। NMIMS निश्चित रूप से इस देश में सबसे अच्छी तरह से स्थापित खुले संस्थानों में से एक है। आगे जानें डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें।

2. चंडीगढ़ विश्वविद्यालय डिस्टेंस लर्निंग | Chandigarh University

2012 में, चंडीगढ़ विश्वविद्यालय की स्थापना की गई थी जिसके बाद से ही चंडीगढ़ विश्वविद्यालय ने पिछले कुछ वर्षों में शिक्षा के क्षेत्र में अपनी प्रतिष्ठा बनाई है और अब एक अच्छी तरह से स्थापित विश्वविद्यालय बन गया है। 

3. IGNOU डिस्टेंस लर्निंग | IGNOU University

भारत में, सबसे लोकप्रिय और सबसे पुराने मुक्त विश्वविद्यालयों में से एक इंदिरा गांधी राष्ट्रीय ओपन विश्वविद्यालय है। भारत के पहले राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के रूप में, इग्नू की स्थापना 1985 में हुई थी। डिस्टेंस लर्निंग कोर्स के लिए भुगतान की जाने वाली फीस भी बहुत कम और सस्ती है। इस टॉपिक के बाद हमने बताया है कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें।

4. एमिटी यूनिवर्सिटी डिस्टेंस एजुकेशन | Amity University

नोएडा में एमिटी यूनिवर्सिटी डिस्टेंस एजुकेशन टॉप डिस्टेंस यूनिवर्सिटी की सूची में भारत के प्रसिद्ध और अच्छी तरह से स्थापित निजी विश्वविद्यालयों में से एक है, जिसे दुनिया भर में मान्यता प्राप्त है। 

5. सिम्बायोसिस विश्वविद्यालय | Symbiosis University

सिम्बायोसिस डिस्टेंस लर्निंग कॉलेज (SCDL) की स्थापना 2001 में हुई थी। यह डिस्टेंस लर्निंग के क्षेत्र में कई वर्षों से संचालित सबसे बड़े निजी विश्वविद्यालयों में से एक रहा है। 

6. अन्नामलाई विश्वविद्यालय | Annamalai University

अन्नामलाई विश्वविद्यालय डिस्टेंस लर्निंग कई वर्षों से छात्रों को दूरस्थ शिक्षा प्रदान करने वाले सबसे पुराने विश्वविद्यालयों में से एक है।

7. सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय | Sikkim Manipal University

सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय में कोर्स उन छात्रों के लिए एक बढ़िया विकल्प है जो देश के शीर्ष कॉलेजों में से एक से मैनेजमेंट में डिग्री चाहते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, कोर्स के चयन के लिए, सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय में डिस्टेंस लर्निंग अत्यधिक लोकप्रिय है और अन्य नियमित कार्यक्रमों की तुलना में कोर्स के लिए शुल्क भी बहुत सस्ती है।

8. डिस्टेंस लर्निंग स्कूल, दिल्ली विश्वविद्यालय | Delhi University

स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग 1962 में दिल्ली विश्वविद्यालय के एक घटक कॉलेज के रूप में स्थापित किया गया था और यह भारत में दूरस्थ शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी है। यह भारत के सबसे बड़े शिक्षण संस्थानों में से एक है।

9. मैनेजमेंट और टेक्नोलॉजी संस्थान (आईएमटी) | Institute Of Management & Technology

भारत में डिस्टेंस लर्निंग प्रदान करने वाला अन्य शीर्ष संस्थान आईएमटी डिस्टेंस एंड ओपन लर्निंग इंस्टीट्यूट है। यह उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित अग्रणी दूरस्थ कॉलेजों में से एक है। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, अपने छात्रों को आवश्यक कौशल सीखने में मदद करके, केंद्र का उद्देश्य प्रबंधन और उद्यमिता में हरफनमौला नेता विकसित करना है। यह पूर्णकालिक, अंशकालिक और कॉर्पोरेट पीजीडीएम पाठ्यक्रम और अन्य कार्यक्रम प्रदान करता है।

10. सुरेश ज्ञान विहार विश्वविद्यालय | Suresh Gyan University

सुरेश ज्ञान विहार विश्वविद्यालय दूरस्थ शिक्षा भारत के प्रमुख निजी स्वामित्व वाले विश्वविद्यालयों में से एक है जो यूजी और पीजी के लिए विभिन्न डिस्टेंस लर्निंग कोर्स और विभिन्न अन्य प्रबंधन कार्यक्रम प्रदान करता है।

यह भी पढ़े: भारत के राज्य और राजधानी की सूची

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की मान्यता कितनी होती हैं?

अब आपको पता चल गया होगा कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, अगर आपको लगता है कि डिस्टेंस लर्निंग एजुकेशन की मान्यता या महत्व सामान्य कॉलेज से किये गए ग्रेजुएशन से कम है तो आप गलत सोच रहे हैं। 

ग्रेजुएशन चाहे डिस्टेंस लर्निंग से हो या सामान्य कॉलेज से, दोनों का महत्व और बाहरी दुनिया में मान्यता एक जैसी ही है। आप किसी नौकरी के लिए आवेदन भी देते हैं तब भी डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन किये हुए डिग्री का महत्व उतना ही माना जायेगा।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लाभ

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, डिस्टेंस लर्निंग के कई लाभ हैं। हालांकि, वे सिंक्रोनस या एसिंक्रोनस कोर्स संरचनाओं से भिन्न होते हैं। आइए एक नजर डालते हैं इन फायदों पर। साथ ही हम आपको यह भी समझायेंगे कि वे डिस्टेंस लर्निंग को एक सम्मोहक विकल्प क्यों बनाते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लाभ

आत्म प्रेरणा

प्रेरित छात्र डिस्टेंस लर्निंग में उत्कृष्टता हासिल करते हैं। यह छात्रों को आत्म-अनुशासित रहने के लिए प्रोत्साहित करता है। छात्र अधिक व्यक्तिगत जिम्मेदारी लेते हैं, जैसे उन्हें सुव्यवस्थित रहना चाहिए, आदि। उन्हें ऑनलाइन सेटिंग में अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए।

चुनने के लिए लचीलापन

डिस्टेंस लर्निंग कोर्स भी लचीलेपन के साथ आते हैं। हालांकि, यह कोर्स संरचना से भिन्न होता है। कई कोर्स के लिए, छात्र अपना कार्यक्रम निर्धारित करते हैं। वे अपने पसंदीदा स्थान पर कक्षाएं लेते हैं। आगे पढ़िए, डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें।

अनुकूलनशीलता और स्वतंत्रता

प्रशिक्षक अपने छात्रों की विविध शैक्षिक आवश्यकताओं के अनुरूप डिस्टेंस लर्निंग को तैयार कर सकते हैं और यह छात्रों को अपनी गति से कहीं भी सीखने की स्वतंत्रता प्रदान करता है। यह एक अनुकूलनीय सीखने का रूप बना हुआ है।

आसान पहुँच

कुछ के लिए पारंपरिक कक्षाओं में जाना असंभव है। काम और घरेलू जीवन की जिम्मेदारियां रास्ते में आ सकती हैं। डिस्टेंस लर्निंग शिक्षा तक आसान पहुँच प्रदान करती है। छात्रों को एक कंप्यूटर और एक इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता है।

सीखते समय कमाई

फुल टाइम नौकरी करने वालों के लिए, सतत शिक्षा कभी तस्वीर से बाहर थी। आज, हालांकि, वे अपने प्रोफेशनल स्किल को सुधार और अपडेट कर सकते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, डिस्टेंस लर्निंग कभी भी ली जा सकती है जैसे रोज़ शाम या सप्ताहांत (Weekend) जो इसे सर्वश्रेष्ठ बनाता है। स्कूली शिक्षा को अब करियर से पहले नहीं आना है।

धन और समय की बचत

डिस्टेंस लर्निंग से धन और समय की भी बचत होती है। छात्रों (और प्रशिक्षकों) को परिसर से आने-जाने के समय के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। उनके पास पेट्रोल, कार के रखरखाव, या पार्किंग से संबंधित खर्च भी नहीं है। एकल माता-पिता चाइल्डकैअर की लागतों से बच सकते हैं और फिर भी उनके पास सीखने का एक मूल्यवान अनुभव है।

डिस्टेंस लर्निंग कोर्स अक्सर ऑनलाइन शिक्षण सामग्री प्रदान करते हैं। तो, छात्र मिश्रण से पाठ्यपुस्तकों की लागत भी निकाल सकते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, ये लागत अकेले शिक्षार्थियों को प्रति सेमेस्टर सैकड़ों रूपए बचा सकती है।

वर्चुअल ट्रिप

डिस्टेंस लर्निंग छात्रों को वर्चुअल ट्रिप करने की अनुमति देती है। ये “यात्राएं” छात्रों को पाठ्यक्रम से संबंधित स्थानों का अनुभव करने देती हैं। छात्र इन अनुभवों के माध्यम से इंटरैक्टिव तरीके से सीख सकते हैं।

वर्चुअल ट्रिप छात्रों को शामिल करने का एक रोमांचक तरीका है, और इंटरैक्टिव टूल हैं, कई प्रशिक्षक जुड़ाव बढ़ाने के लिए भरोसा करते हैं।

यह भी पढ़े: कंप्यूटर क्या है? इसकी परिभाषा, चित्र, भाग और कार्य

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के नुकसान

जहाँ किसी चीज़ के फायदे होते हैं वहीँ उसके नुकसान भी होते हैं, नीचे हमने डिस्टेंस लर्निंग के सभी नुकसान के बारे में सविस्तार लिखा है। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, अंत तक ज़रूर पढ़ें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के नुकसान

व्याकुलता की संभावना अधिक

छात्र अक्सर पढाई करने बैठ नहीं पाते और मोबाइल, टीवी, इंटरनेट आदि में व्यस्त होकर पढाई को किनारे कर देते हैं। 

छिपी हुई लागतें

हालांकि एक डिस्टेंस लर्निंग कार्यक्रम की लागत आमतौर पर एक नियमित कार्यक्रम की तुलना में सस्ती होती है, इसमें छिपी हुई लागतें शामिल हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपका डिस्टेंस लर्निंग कोर्स ऑनलाइन प्रदान किया जाता है, तो आपको कुछ प्रारंभिक खर्च करने पड़ सकते हैं जैसे कंप्यूटर स्थापित करना और एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन प्राप्त करना।

आपको प्रिंटर, वेब कैमरा आदि जैसे अतिरिक्त चीज़ें खरीदने पड़ सकते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, इसमें कुछ खर्चे बार-बार हो सकते हैं, जैसे रखरखाव और बिजली की लागत।

कठिन तकनीक 

शिक्षा के डिस्टेंस लर्निंग मोड में प्रौद्योगिकी पर अधिक निर्भरता एक बड़ी खामी हो सकती है, खासकर जब शिक्षा ऑनलाइन वातावरण में होती है। कोई भी खराब सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर चल रही कक्षा को ठप कर सकता है और सीखने की प्रक्रिया को बाधित कर सकता है। इसी तरह, यदि कोई छात्र कंप्यूटर और तकनीकी जानकार नहीं है, तो उसका सीखने का अनुभव असंतोषजनक हो सकता है।

टीचर की गुणवत्ता से समझौता

डिस्टेंस लर्निंग अक्सर पर्याप्त अच्छी गुणवत्ता वाले टीचर्स और सदस्यों की कमी से ग्रस्त होती है। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें के अन्य मामलों में, भले ही प्रशिक्षक अच्छा हो सकता है कि वह ऑनलाइन वातावरण में पढ़ाने में सहज न हो। कभी-कभी तकनीक कोर्स के वितरण और डिजाइन के साथ पूर्ण न्याय नहीं कर पाती है। इन सभी परिस्थितियों में एक छात्र हार जाता है।

डिस्टेंस लर्निंग प्रदाताओं को यह महसूस करना चाहिए कि यह तकनीक नहीं है, बल्कि अच्छे और प्रभावी शिक्षक हैं जो छात्रों को पढ़ाते हैं।

डिग्रियों की संदिग्ध विश्वसनीयता

भले ही डिस्टेंस लर्निंग और ऑनलाइन लर्निंग को मान्यता मिलनी शुरू हो गई है, फिर भी बहुत सी फर्जी और गैर-मान्यता प्राप्त डिग्री की पेशकश की जा रही है। दूरी / ऑनलाइन कार्यक्रमों की संख्या में वृद्धि के साथ, घोटालेबाजों की संख्या भी बढ़ रही है। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें, यह संभावित नियोक्ताओं के बीच मान्यता प्राप्त डिस्टेंस लर्निंग डिग्री की विश्वसनीयता को प्रभावित करता है।

नेटवर्किंग से बाहर हो जाना

नियमित कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के फायदे शिक्षकों के साथ बातचीत और अच्छे कोर्स कंटेंट से परे हैं। भारत में प्रमुख बिजनेस स्कूलों (बी-स्कूलों) से एमबीए ग्रेजुएट इस तथ्य की पुष्टि करेंगे कि स्थापित पूर्व छात्रों, प्रसिद्ध फैकल्टी और उद्योग प्रमुखों के साथ नेटवर्क के अवसर एक सुरक्षित करियर बनाने में एक लंबा रास्ता तय करते हैं। एक दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम इस बहुत महत्वपूर्ण पहलू को खो देता है।

यह भी पढ़े: एमएस एक्सेल क्या है?

अक्सर पूछे जाने प्रश्न (FAQs)

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन क्यों सर्वश्रेष्ठ है?

इसका जवाब एकदम सीधा है, डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करना आसान है आप अपने समय अनुसार पढ़ाई कर सकते हैं और ग्रेजुएट की डिग्री हासिल कर सकते हैं। साथ ही आप चाहे नौकरी करें या हाउसवाइफ हो, डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन आज के दौर में सबके लिए सबसे बेस्ट विकल्प है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे और कहाँ से करें?

अगर आपने 12वीं पास कर ली है तो आप सबसे पहले डिस्टेंस लर्निंग के कॉलेज के बारे में रिसर्च कीजिये। जो कॉलेज आपको अच्छा लगे और फीस भी आपके बजट में हो उस कॉलेज में अपनी स्किल बढ़ाने के लिए कोर्स ले लीजिये और डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कर लीजिये। इस लेख में हमने भारत के टॉप 10 डिस्टेंस लर्निंग कॉलेज के बारे में बताया है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन में कितनी फीस लगेगी?

अगर आप यह जान चुके हैं कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें तो आपको यह भी बता दें कि हर डिस्टेंस एजुकेशन वाले कॉलेज की फीस अलग-अलग होती है लेकिन फिर भी अगर आप ग्रेजुएशन कोर्स करते हैं तो लगभग 10-15 हज़ार रुपय लगेंगे।

डिस्टेंस लर्निंग क्या है और इसके फायदे क्या हैं?

कम शब्दों में बताएं तो डिस्टेंस एजुकेशन एक “Education From Anywhere” मॉडल है जिसमें आप भारत या दुनिया के किसी भी कॉलेज में किसी भी कोर्स के लिए आवेदन दे सकते हैं और घर बैठे पढ़ सकते हैं। रही बात इसके फायदों की तो आप इस लेख में अंदर पढ़ सकते हैं की डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें और इसके फायदे क्या हैं?

अंतिम पंक्तियां

डिस्टेंस लर्निंग जितनी तेजी से भारत में प्रसिद्ध हो रहा है, आने वाले 5-10 सालों में लगभग सामान्य कॉलेज ग्रेजुएशन और डिस्टेंस लर्निंग ग्रेजुएशन का अनुपात 50-50% हो जाएगा। 

यह पद्धति छात्रों के लिए अच्छी और सुविधाजनक भी है, आप किसी भी उम्र के हो या किसी भी क्षेत्र के पर अगर आपको कोई पढ़ाई करनी है और अपनी स्किल बढ़ाना है तो डिस्टेंस लर्निंग एक बेस्ट विकल्प है। इस डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें को पढ़कर आपकी बहुत साड़ी समस्याएं दूर हुई होंगी।

हम आशा करते हैं हमने आपके डिस्टेंस लर्निंग से जुड़े सभी सवालों का जवाब दे दिया है। अगर कोई और सवाल या कुछ कहना है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में भी लिख सकते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published.